Bank Account me jama paisa ab apka nahi rahega | Latest News

Add Tag Close (x)
Reserve Bank Of India Note Ban Bank Accounts Money And Investing
Update Topic x
Is Must Read       Hold       Delete   
Posts 250 Likes 7508
Posted on:2017-12-10 01:00:29

Bank Account me jama paisa ab apka nahi rahega | Latest News

बैंक में आम आदमी पैसा इसलिए रखता है ताकि धन सुरक्षित रहे लेकिन, जल्दी ही बैंक में पैसा रखने वालों के लिए नई मुसीबत खड़ी हो सकती है। मीडिया रिपोट्र्स के मुताबिक केंद्र सरकार एक ऐसा बिल लेकर आ रही है जो यदि पास हो गया तो आपके बैंक में जमा धन पर आपका हक खत्म होने का खतरा पैदा हो सकता है।


केंद्र सरकार अपने 15 दिसंबर से शीतकालीन सत्र में एक ऐसा बिल लाने की तैयारी में है जिससे आपकी माथे पर परेशानी की लकीरें दिखने लगेंगी। इसका व्यापक असर न सिर्फ बैंकों पर पड़ेगा बल्कि बैंक के बचत खाते में पैसा रखने वाला एक-एक ग्राहक इस कानून के दायरे में रहेगा और इस कानून से उसके लिए एक कभी न खत्म होने वाली 'परमानेंट नोटबंदी' का नया वित्तीय ढांचा खड़ा हो जाएगा।  




फाइनेंशियल रेजोल्यूशन एंड डिपॉजिट इंश्योरेंस (एफआरडीआई) बिल -2017 का मसौदा तैयार है। इसे इसी शीत सत्र में संसद में रखा जा सकता है। यह बिल बैंक को अधिकार देता है कि वह अपनी वित्तीय स्थिति बिगडऩे की हालत में आपके जमा पैसे लौटाने से इनकार कर दे और इसके बदले आपको सिक्योरिटीज अथवा शेयर दें।


फिलहाल किसी बैंक की वित्तीय स्थिति का आंकलन करने और उसे वित्तीय संकट से बाहर निकलने की सलान देने का काम रिजर्व बैंक करता था लेकिन एफआरडीआई कानून पास होने के बाद नया रेजोल्यूशन कॉरपोरेशन इस काम को अपने हाथ में ले लेगा।

1.7k views
X
Trending Topics
93.5k Views - 2k Likes
Report This Post Close (x)
Harassment: Disparaging or adversarial towards a person or group
Spam: Undisclosed promotion for a link or product
Doesn't Answer the Question: Does not address question that was asked
Plagiarism: Reusing content without attribution (link and blockquotes)
Joke Answer: Not a sincere answer
Poorly Written: Not in English or has very bad formatting, grammar, and spelling
Unhelpful Credential: Author's credential is not credible, clear, and relevant
Bad Image: Content contains image that violates policy
Factually Incorrect: Substantially incorrect and/or incorrect primary conclusions